मुरादाबाद में 50 से अधिक वाल्मीकियों ने हिन्दू धर्म छोड़ा, कहा सरकार दलित विरोधी

उनका कहना था कि भाजपा सरकार में दलित समाज के लोगों पर अत्याचार हो रहा है.

मुरादाबाद में 50 से ज्यादा वाल्मीकि समाज के लोगों ने हिन्दू धर्म त्याग दिया। उन्होंने अपने घरों में रखी मूर्तियों को भी रामगंगा नदी में प्रवाहित कर दिया। उनका कहना था कि भाजपा सरकार में दलित समाज के लोगों पर अत्याचार हो रहा है। सरकार के दलित विरोधी रवैये के कारण वे हिन्दू धर्म से खुद को अलग कर रहे हैं। इसलिए उन्होंने मिलकर धर्म त्यागने का फैसला किया है।

वाल्मीकियों ने हिन्दू धर्म छोड़ा

हालांकि इस दौरान वाल्मीकि समाज के लोगों को धर्म छोड़ने से रोकने के लिए बजरंग दल के कार्यकर्ता पहुंचे। समाज के लोगों ने साफ कहा कि भाजपा सरकार में दलितों को शोषित किया जा रहा है। उनकी लगातार उपेक्षा हो रही है। उन्होंने सहारनपुर, संभल, मेरठ का उदाहरण दिया कि वहां अनुसूचित जाति वर्ग को दूसरी जातियों के लोग प्रताड़ित कर रहे हैं।

पिछले दिनों मुरादाबाद में भाजपा और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं में फायरिंग का मामला सामने आया था। वाल्मीकि धर्म समाज के संचालक लल्ला बाबू द्रविड़ ने भाजपा सरकार को वाल्मीकि समाज के लोगों पर हमला करने वाली सरकार कहा। हालांकि समाज के लोगों ने दूसरा धर्म नहीं अपनाया मगर वे जल्द दूसरा धर्म अपना सकते हैं।



-टाइम्स न्यूज़ मुरादाबाद


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...