Header Ads

नगर निकाय चुनाव : रामकृष्ण चौहान भी पालिकाध्यक्ष पद के दावेदार

चौहान का कहना है कि गजरौला के विकास और उत्थान के लिए ईमानदार कोशिशों की दरकार है.

बहुराष्ट्रीय कंपनियों की प्रगति का साधन बना गजरौला अपनी प्रगति में पीछे छूट गया बल्कि इससे यहां के नागरिकों का जीवन और जटिल हो गया। इसके लिए भाजपा के फायर ब्रांड नेता रामकृष्ण चौहान नगर के योग्य प्रतिनिधि नहीं मिलना मानते हैं। उनका कहना है कि गजरौला के विकास और उत्थान के लिए ईमानदार कोशिशों की दरकार है जिसके लिए उतनी ही सम्यक दृष्टि और विशाल हृदय की भी आवश्यकता है। किसी भी नगर के विकास के लिए आम नागरिक की आवश्यकताओं, जनसुविधाओं और विकास के मानकों को गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

चंद दलालों, बिचौलियों और चाटुकारों की मंडलियां शहर के विकास की जगह अपना विकास ही करती हैं। चौहान के मुताबिक यहां यही हो रहा है जिसके कारण नगर का आम आदमी समस्याओं के निदान के लिए रो रहा है।

ram_krishna_chauhan_gajraula

आगामी नगर निकाय चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए रामकृष्ण चौहान भी प्रबल दावेदार हैं। उनका कहना है कि वे 1992 से राजनीति में सक्रिय हैं तथा भाजपा के साथ जुड़े थे और पूरी निष्ठा से पार्टी और संगठन की सेवा में संलग्न हैं। चाहें पार्टी सत्ता में रही या विपक्ष में वे उसी से जुड़े रहे और हमेशा उसी के साथ रहेंगे।

'पीएम के स्वच्छता अभियान के खिलाफ हैं चेयरमेन’ -चौहान

रामकृष्ण चौहान ने भाजपा युवा मोर्चा में 1992 में नगर अध्यक्ष का पदभार संभाला था। इस दौरान नौजवानों को संगठन से जोड़ने में उनका अहम योगदान रहा। उनके बेहतर काम को देखते हुए सन 2000 में भाजपा नेतृत्व ने उन्हें नगराध्यक्ष बनाया। वे 2006 में एक बार फिर से निरविरोध नगर अध्यक्ष बनाये गये। उन्होंने पार्टी संगठन में क्रांतिकारी कार्य किया और क्षेत्र में भाजपा का जनाधार बढ़ा। नवयुवक पार्टी से जुड़े। बाद में वे जिला उपाध्यक्ष बनाये गये तथा उन्होंने जिलास्तर पर बेहतर परिणाम दिये। वे चुनाव से पूर्व बूथ स्तरीय संगठनात्मक ढांचे को मजबूत बनाने में बहुत सफल रहे। जिससे लोकसभा और विधानसभा चुनावों में ग्रामीण क्षेत्रों में संगठन मजबूत होने से भारी सफलता मिली।

 ''ओवरब्रिज के नीचे गंदगी का साम्राज्य''-रामकृष्ण चौहान

रामकृष्ण चौहान और उनकी युवा टीम का कहना है कि पालिकाध्यक्ष पद पर दावेदारी का उनका मजबूत हक बनता है जो मिलना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि उनकी कोशिश जारी है फिर भी यदि पार्टी उनके बजाय किसी अन्य वफादार कार्यकर्ता को मैदान में लाती है तो वे उसके चुनाव अभियान में पूरा सहयोग करेंगे। वे पार्टी के वफादार तथा अनुशासित सैनिक हैं उसका निर्णय सिर माथे पर लेंगे।

रामकृष्ण चौहान नगर के कृष्णा नगर में एक इंग्लिश मीडियम स्कूल दशकों से चला रखा है तथा फौंदापुर में भी उनका एक स्कूल संचालित है। उनका कहना है कि वे शिक्षा से विशेष जुड़ाव रखते हैं। क्योंकि शिक्षित समाज ही हर क्षेत्र में आगे बढ़ सकता है।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...