Header Ads

कैशियर की मनमानी से परेशान खाता धारक

नोटबंदी के बाद से कई कर्मचारियों का व्यवहार ग्राहकों के प्रति उपेक्षा भरा हो गया है.

कॉर्पोरेशन बैंक की शाखा का कैशियर नोटबंदी के बाद से मनमानी पर उतारु है। कई बार परेशान ग्राहक शाखा प्रबंधक से शिकायत कर चुके लेकिन वह अपनी कार्यशैली बदलने को तैयार नहीं। छोटे अकाउंट अर्थात दो ढाई हजार रुपये निकालने वालों को दो हजार या पांच सौ से कम के नोट नहीं दिये जाते। जबकि दस हजार या पांच सौ के बजाय सौ या उससे भी छोटे नोट थमा दिये जाते हैं। न तो हर ग्राहक प्रबंधक से शिकायत कर सकता है और न ही हर समय प्रबंधक इस काम के लिए खाली रहते हैं।

corporation_bank_gajraula

ऐसे हालात को देखते हुए कैशियर अपने व्यवहार में बदलाव लाने को तैयार नहीं है। ऐसे में बैंक में जमा राशि कम आ रही है या तो लोग दूसरी बैंकों का रुख कर रहे हैं अथवा पैसा बैंक के बजाय घर ही रख लेते हैं। नोटबंदी के बाद से कई कर्मचारियों का व्यवहार ग्राहकों के प्रति उपेक्षा भरा हो गया है तथा वे झूठ बोलकर छोटे-बड़े नोटों की कमी का बहाना बनाते रहते हैं।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...