Header Ads

बजट से नौकरीपेशा लोगों को निराशा, टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं

उम्मीद की जा रही थी कि चुनावों से पूर्व सरकार कुछ राहत देगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

नौकरीपेशा लोगों को बजट से निराशा हाथ लगी है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को आम बजट पेश किया। उम्मीद की जा रही थी कि चुनावों से पूर्व सरकार कुछ राहत देगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सरकार ने टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया। वह चाहती तो इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव कर राहत दे सकती थी।

arun-jaitely-budget-2018

नौकरीपेशा लोगों को हालांकि स्टैंडर्ड डिडक्शन स्कीम के तहत यात्रा और मेडिकल खर्च के मद में ग्रास सैलरी से चालीस हजार रुपये घटाकर उस आमदनी पर कर देना होगा। इनकम टैक्स पर सेस बढ़ाने का प्रावधान किया गया है।

बुजुर्गों को 80डी के तहत जो मेडिकल क्लेम की सीमा थी उसे बढ़ाकर 50 हजार रुपये किया गया है। उनके लिए बैंक में पैसा जमा पर ब्याज की छूट की सीमा भी 50 हजार रुपये कर दी गयी है।

हालांकि सरकार ने 25 प्रतिशत कारपोरेट टैक्स रेट की छूट को अब 250 करोड़ रेवन्यू वाली कंपनियों को देने का फैसला किया है। 100 करोड़ रुपये तक के टर्नओवर वाली किसान उत्पादों की कंपनियों को 100 प्रतिशत टैक्स में छूट देने की घोषणा की है।

मोबाइल फोन महंगे हो गये हैं। उनपर कस्टम ड्यूटी 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत कर दी गयी है।


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...