Header Ads

गजरौला से सीखें जिले के दूसरे शहर

गजरौला में स्वच्छता अभियान के लिए यहां की पालिकाध्यक्ष अंशु नागपाल ने कमर कस ली है.

जिले का सबसे शांत नगर स्वच्छता और अतिक्रमण हटाओ में पिछड़ गया है। वैसे अमरोहा और हसनपुर की हालत भी बद से बदतर है। नौगांवा सादात, उझारी और जोया तीनों नगर पंचायतों की हालत भी कमोबेश ऐसी ही है।

anshu-nagpal-rajesh-saini

गजरौला पालिकाध्यक्ष अंशु नागपाल ने कार्यभार संभालते ही जिस लग्न और परिश्रम का परिचय दिया उससे नगर की शक्ल सूरत बदल गयी तथा कई जरुरी स्थानों पर नये शौचालयों का निर्माण कर वास्तव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन के नारे को साकार किया है। इन शौचालयों के रख-रखाव और स्वच्छता पर पालिका प्रशासन का सख्त पहरा है। इसी कारण ये सार्वजनिक शौचालय लोगों के निजि शौचालयों से भी बेहतर तथा स्वच्छ हैं।

anshu-nagpal-toilets-in-gajraula
गजरौला की पालिकाध्यक्ष अंशु नागपाल ने पिछले दिनों सार्वजानिक शौचालयों का उद्घाटन किया था.
मंडी धनौरा में राजेश सैनी को लोगों ने दूसरा मौका देकर बड़ा दायित्व सौंपा है लेकिन उनके इस कार्यकाल का आरंभ बहुत ही लापरवाही भरा दिखता है। बाईपास रोड पर अतिक्रमणकारियों ने कब्जा कर उन्हें खुली चुनौती दी है। वहीं उनका पुश्तैनी आवास होने के बावजूद वे कुछ भी नहीं कर पा रहे तथा इसी कारण यहां सफाई व्यवस्था भी ठप्प सी है। पूरे नगर की सड़कों का बुरा हाल है। स्वच्छता में तीन दशक पूर्व दूर-दूर तक पहचान रखने वाला मंडी धनौरा आजकल गंदा और अतिक्रमणग्रस्त नगर बनकर रह गया है। हसनपुर और अमरोहा ऐसे शहर बन चुके जहां पहले से ही तंग रास्तों पर अतिक्रमण ने लोगों का जीवन दूभर कर दिया है। इन सभी को गजरौला अध्यक्ष से सीखना चाहिए।

-टाइम्स न्यूज़ मंडी धनौरा.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...