Header Ads

राजस्थान में कांग्रेस ने तीनों सीटें जीतीं, भाजपा की करारी हार

राजस्थान में तीनों सीटें भारतीय जनता पार्टी के पास थीं, जिन्हें कांग्रेस ने उनसे छीन लिया.

राजस्थान में भाजपा को कांग्रेस ने फरवरी की पहली तारीख को करारी चोट दे दी है। कांग्रेस के नेता कह रहे हैं कि देश ने अब कांग्रेस मुक्त नहीं, भाजपा मुक्त भारत की तैयारी कर ली है। राजस्थान से इसकी शुरुआत हो चुकी है। यहां दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया और बीजेपी को उपचुनाव में पछाड़ दे दी। भाजपा को समझ नहीं आ रहा कि यह क्या हुआ?

narendra-modi-rahul-gandhi-rajasthan-election

अजमेर लोकसभा सीट पर कांग्रेस के रघु शर्मा ने बीजेपी के राम स्वरुप लांबा को 20 हजार से अधिक वोटों से पराजित किया। रामस्वरुप पूर्व मंत्री सांवरलाल जाट के पुत्र हैं जिनका बीमारी के बाद निधन हो गया था। इस सीट पर उपचुनाव हुआ जिसमें रामस्वरुप को 20,648 वोट से कांग्रेस उम्मीदवार ने हराया।

अलवर लोकसभा सीट पर भी कांग्रेस ने बीजेपी को बुरी तरह हराया। यहां शिकस्त का अंतर डेढ़ लाख से अधिक रहा। डा. करण सिंह यादव ने वसुंधरा सरकार में श्रम एवं नियोजन मंत्री डा. जसवंत यादव को 1,56,319 मतों के बड़े अंतर से पराजित कर रिकार्ड बनाया। यहां कांग्रेस को 5,20,434 और बीजेपी को 3,75,520 वोट मिले। यह सीट बीजेपी के महंत चांदनाथ के निधन के बाद खाली हुई थी। उनपर आरोप लगता रहा था कि वे अपने संसदीय क्षेत्र में आते ही नहीं थे। हालांकि बाद में कैंसर से उनकी मृत्यु हुई।

मंडलगढ़ विधानसभा सीट का उपचुनाव बीजेपी विधायक कीर्ति कुमारी के निधन के बाद खाली हुई सीट पर हुआ। कांग्रेस के विवेक धाकड़ ने बीजेपी के शक्ति सिंह हाडा को 12,976 यानि करीब 13 हजार वोट के अंतर से पराजित किया।

राजस्थान में तीनों सीटें बीजेपी के पास थीं, जिन्हें कांग्रेस ने उनसे छीन लिया। इसे मोदी सरकार और वसुंधरा राजे सरकार के लिए बड़े झटके के तौर पर देखा जा रहा है। गुजरात चुनाव के बाद राहुल गांधी का कद लगातार बढ़ रहा है।

-टाइम्स न्यूज़ ब्यूरो.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...