Header Ads

सिख इतिहास से संघ की छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं -भोगल

akali-dal-bhogal-gajraula
अकाली नेता कुलदीप सिंह भोगल का सिख समुदाय के प्रमुख लोगों ने उनका जोरदार स्वागत किया.

केंद्र और पंजाब में भाजपा के साथ बरसों से गठबंधन का आनंद लेने वाले शिरोमणि अकाली दल को पंजाब की सत्ता जाने के बाद पता चला है कि भाजपा का मार्गदर्शक संगठन आरएसएस सिख विरोधी आचरण पर चल रहा है। अकाली दल के प्रदेश प्रभारी कुलदीप सिंह भोगल इस सिलसिले में गजरौला के सिखों से मिले और बताया कि आरएसएस सिखों के इतिहास को धूमिल करने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने इसे सिखों का खुला अपमान करार देते हुए कहा कि इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

अकाली नेता ने कहा कि वे उत्तर प्रदेश के सिखों को संगठित करने तथा आरएसएस की मंशा को विफल करने के लिए इधर आए हैं। उन्होंने लोगों से अकाली दल की सदस्यता ग्रहण करने का आग्रह करते हुए सिख एकता को मजबूती प्रदान करने का आह्वान किया।

दोपहर के समय भोगल चौपला स्थित साध-संगत गुरुद्वारा पहुंचे तो सिख समुदाय के प्रमुख लोगों ने उनका जोरदार स्वागत किया। इस मौके पर पत्रकार वार्ता में भोगल ने बताया कि उत्तर प्रदेश में अकाली दल के विस्तार की काफी संभावनाएं हैं। यहाँ विभिन्न समुदायों में गुरु के प्रति सम्मान भाव है। अकाली दल ने सिख सिद्धांतों के बल पर पंजाब की तस्वीर बदली है और विकास के क्षेत्र में बहुत काम किया है। यह सौ साल पुरानी पार्टी है जिसने देश की आजादी में बढ़-चढ़कर कुर्बानियां दी हैं। समाज सुधार की दिशा में गुरुमत की रोशनी में सबसे अधिक काम अकाली दल ने किया है। उन्होंने सिख इतिहास में छेड़छाड़ के खिलाफ सिखों की एकजुटता का आह्वान किया।

इस मौके पर सरदार स्वर्णजीत सिंह, सरदार हरभजन सिंह, सरदार धर्म सिंह, दिनेश प्रजापति, सरदार हरजीत सिंह, सरदार बचन सिंह, सरदार जगप्रीत सिंह, मनमीत सिंह, प्रिंस राज उप्पल और अली चौधरी मौजूद थे।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.