Header Ads

डाक कर्मियों की हड़ताल से हज़ारों लोग परेशान, दो सप्ताह से हड़ताल पर हैं डाक कर्मी

post-office-gajraula-strike-photo
नगर और देहात में वितरित होने वाली दो सप्ताह की डाक के गट्ठर डाकघर में भरे पड़े हैं.
डाक कर्मियों की हड़ताल को आज दो सप्ताह हो रहे हैं और उसके जल्दी समाप्त नहीं होने की संभावना से लोग परेशान हैं। सातवें वेतन आयोग को लागू कराने की मांग को लेकर अखिल भारतीय ग्रामीण डाक सेवा के सानिध्य में देशभर में यह हड़ताल जारी है, लेकिन केन्द्र सरकार ने न तो डाक कर्मियों की मांगों पर विचार करने और न ही इससे उत्पन्न जनता की समस्याओं के समाधान की ओर कोई ध्यान दिया है।

post-office-gajraula

नगर और देहात में वितरित होने वाली दो सप्ताह की डाक के गट्ठर डाकघर में भरे पड़े हैं। हालांकि पोस्ट मास्टर महेश कुमार मौर्य शहरी क्षेत्र में डाक वितरण की बात कह रहे हैं। शहर के कई लोग डाकघर में पहुंच कर अपनी डाक का पता लगाकर लाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन स्टाफ के अभाव में सीलबंद कट्टों और पैकिटों को खोला नहीं जा रहा।

gajraula-dak-ghar

यह हड़ताल केवल ग्रामांचलों में डाक वितरण करने वालों की है लेकिन वितरण में दिक्कत दोनों जगह है। शहर को अलग-अलग हिस्सों में बांट कर कुछ गांव उसमें जोड़कर एक ही डाक कर्मी को दे दिये गये हैं। ऐसे में हड़ताल के कारण कहीं भी डाक वितरण नहीं हो रहा।

post-office-strike-gajraula

डाक कर्मियों ने हड़ताल पर बैठे हुए बताया कि उनका वेतन आठ हजार के लगभग है। जबकि सरकारी चौकीदार भी आजकल 18 हजार से अधिक पाता है। सातवें वेतन आयोग के तहत उन्हें भी बीस हजार के करीब वेतन मिलना चाहिए जिसका वादा सरकार भी कर चुकी लेकिन अब मौन धारण कर चुकी है।

mahesh-kumar-morya-post-master
गजरौला के पोस्ट मास्टर महेश कुमार मौर्य शहरी क्षेत्र में डाक वितरण की बात कह रहे हैं.

मोटे वेतन और भत्ते पाने वाले अधिकारियों को वेतन आयोग की सिफारिशों का लाभ दे दिया गया है लेकिन डाक कर्मियों के साथ अन्याय किया जा रहा है। डाक कर्मियों ने कहा है कि वे अपनी यूनियन के साथ हैं। जैसा आगे से आदेश आयोग करेंगे।

gajraula-post-office
गजरौला डाक घर में रखी डाक सामग्री.

मई में दस दिन का वेतन काटा 

डाक कर्मियों ने बताया कि एक बड़े अधिकारी के आदेश पर उनका दस दिन का वेतन भी काट दिया। इसी से सरकार के तानाशाही रवैये का सबूत मिलता है। उन्होंने बताया कि यदि उनका शोषण बंद कर उनके साथ न्याय नहीं हुआ तो आगामी चुनाव में सरकार को सबक सिखाएंगे।

post-office-gajraula-picture
गजरौला स्थित पोस्ट ऑफिस.

इनमें से सेवानिवृत्ति के निकट चल रहे दो डाक कर्मियों ने बताया कि उन्होंने इतना तानाशाही रवैया अपने शासनकाल में किसी सरकार का नहीं देखा।

धरना पर राजू गुप्ता, राजकुमार, गंगासरन सिंह, महेन्द्र सिंह, ओमप्रकाश, प्रेम सिंह, वीर सिंह, रामभरोसे आदि डाककर्मी मौजूद थे।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.