Header Ads

गौशालाओं में तड़प-तड़प कर दम तोड़ रही गायें

cows-death
गौ हत्या करने वाले लगातार पकड़े जा रहे हैं, परन्तु गौ हत्या बंद नहीं हो रही.
पिछले दिनों दिल्ली और राजस्थान की दो गौशालाओं में भूख, प्यास तथा बीमारी से तड़प-तड़प कर कई दर्जन गायों का दम निकल गया। कई दिनों से दम तोड़ रही गायों के शवों तक को उठाने के लिए कोई नहीं आया। एक न्यूज़ चैनल पर लाइव प्रसारण के दौरान गौशाला के एक कर्मचारी ने बताया कि दिल्ली महानगर निगम को इसकी सूचना दी गयी लेकिन कोई भी मृत गायों के शव उठाने नहीं आया। गौशाला संचालिका के बारे में पूछने पर बताया गया कि संचालिका आयी थीं लेकिन यह कह कर चली गयीं कि यह टेंशन हमारी है, तुम अपना काम करो।

पूरे दिन टीवी चैनल पर प्रसारण जारी रहने पर दोपहर के बाद दिल्ली नगर निगम के कुछ कर्मचारी गौशाला पहुंचे। गायों के शवों को एक गाड़ी में ले जाने का काम शुरु हुआ। बीमार गायों को चिकित्सकों ने देखना शुरु किया तथा भूखी गायों के लिए चारे का भी प्रबंध किया गया।

उधर राजस्थान में भी एक गौशाला से इसी तरह की खबर मिली। वहां भी कथित गौभक्तों द्वारा चलायी जा रही गौशाला में कई रोज से कीचड़, गारे में पड़ी-पड़ी भूखी, प्यासी और बीमार गायें तड़प-तड़प कर दम तोड़ रही थीं।

उत्तर प्रदेश में भी अमरोहा तथा हापुड़ जनपदों में कई फर्जी गौ शालायें चल रही हैं। यहां पुलिस द्वारा अवैध गौशालाओं में पशुओं को भेजने की खबरें आयी हैं। ब्रजघाट और रजबपुर के पास छानबीन में गत वर्ष इस तरह के मामले प्रकाश में आए। अमरोहा जनपद में कई स्थानों पर कई थाना क्षेत्रों में अवैध रुप से गौ हत्या करने वाले लगातार पकड़े जा रहे हैं। परन्तु गौ हत्या बंद नहीं हो रही।

इस तरह की घटनाएं दुखद हैं लेकिन गौ रक्षकों का मुखौटा लगाकर गौ संरक्षण के नाम पर सरकार तथा जनता से धन प्राप्त करने वाले गौ शालाओं में इस अमृत समान दूध देने वाले पशुओं पर जुल्म कर रहे हैं। वह कसाईयों से भी बर्बर है। ऐसे लोगों के चंगुल से गायों को बचाना जरुरी है। गौ हत्या की झूठी कहानियों पर कई बेकसूरों की कुछ लोग देश भर में बर्बर हत्यायें कर रहे हैं। वे ऐसे गौशाला संचालकों के पास तक भी नहीं फटकते जहां गौ शालाओं में बंधक बनायी गायें भूखी, प्यासी, बीमारी से कई-कई दिन तड़पते-तड़पते दम तोड़ रही हैं। उन्हें यह भी मालूम होना चाहिए कि मौजूदा सरकार के नेतृत्व में देश-दुनिया का सबसे बड़ा बीफ निर्यातक देश बन गया है। धन्य है हमारे देश के गौभक्त और धन्य है देश की गौभक्त बीफ निर्यातक सरकार!!

-जी.एस. चाहल.