Header Ads

स्मार्ट सिटी के लिए बड़ा और कड़ा कदम

anshu nagpal gajraula
थाना चौराहा पर कई दुकानें सड़क की भूमि पर अवैध रुप से बनी खड़ी हैं.
पालिकाध्यक्ष अंशु नागपाल और पूर्व सांसद देवेन्द्र नागपाल ने नगर को अतिक्रमण मुक्त करने में सकारात्मक भूमिका निभायी है। थाना चौराहे पर यातायात को बाधित कर रही अवैध बाउंड्री को धराशायी करना वास्तव में एतिहासिक काम है। पुलिस के द्वारा किए इस अवैध निर्माण को ध्वस्त करने से नगर के अतिक्रमणकारियों में इससे अच्छा संदेश गया है। ऐसे लोग अब आसानी से राह के रोड़ों को हटाने लगे हैं। थाने की अवैध दीवार हटने से नगर का हृदय-स्थल कहा जाने वाला थाना चौराहा अब खुला-खुला दिख रहा है।

पालिका प्रशासन को चाहिए कि वह थाना चौराहे के चारों ओर खड़े अवैध निर्माण को हटवाए। इससे यहां किए जा रहे सौन्दर्यीयकरण का रास्ता साफ होगा। आवागमन, सरल तथा बाधा रहित होगा। यहां कई दुकानें सड़क की भूमि पर अवैध रुप से बनी खड़ी हैं।

अल्लीपुर चौपला पर जिस तरह ठेले, खोमचे, खोखे तथा डग्गामार वाहनों ने सड़क को अपनी बपौती समझकर वहां से लोगों का निकलना मुश्किल कर रखा था, उसे पालिका ने साफ करवा कर सभी को राहत पहुंचाई। यह भी बड़ा काम था। उपरोक्त दोनों स्थानों पर जारी अतिक्रमण से पिछले सभी नगर प्रमुख आंखें मीचे रहे। हां, साल में एक-दो बार अतिक्रमण हटाने का नाटक खूब किया जाता रहा।
anshu nagpal gajraula

अभी कई स्थानों पर कुछ दुकानदारों ने भी अतिक्रमण कर रखा है। जिस प्रकार थाने और चौपला का अतिक्रमण हटाने में पालिका परिषद ने कुशलता दिखाई है, उससे स्पष्ट संदेश गया है कि अब छोटे अतिक्रमणकारियों को जल्दी ही निशाने पर लिया जाएगा।

जरुर पढ़ें : औद्योगिक प्रदूषण के चलते गजरौला कैसे बनेगा स्मार्ट सिटी?

बुध बाजार में रेलवे स्टेशन तक आने जाने वालों को बहुत बड़ी दिक्कत थी। उसे भी पालिका ने समझदारी और सख्ती के साथ सरल और सुलभ बना दिया। बाजार के अस्थायी फड़ वालों को सड़क से एक निश्चित दूरी पर फड़ लगाने को पाबंद कर दिया गया। इससे आवागमन भी सुचारु रहता है और दुकानदार और खरीददार भी आराम से हैं। साथ ही गली-सड़ी सब्जियां, फलों तथा खाली पैकिंग, पन्नी आदि भी वहां नहीं छोड़े जा रहे। पहले बाजार के बाद पूरी सड़क पर दुकानों के आगे कूड़े-कचरे और गंदगी के अम्बार लग जाते थे।

लोगों का भी इसमें सहयोग अपेक्षित है। ऐसा होने से हमारा नगर वास्तव में एक आदर्श शहर बन सकता है।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.