किसानों की चेतावनी : यदि 48 घंटे में फुंके ट्रांसफॉर्मर नहीं बदले तो आंदोलन होगा

electricity-problem-in-amroha
किसानों को बिजलीघरों के चक्कर लगाने पड़ते हैं। उनकी फसलें चौपट हो रही हैं.
बिजली की समस्या से सबसे अधिक किसान त्रस्त हैं। आए दिन अमरोहा जिले में जगह-जगह पंचायतें की जा रही हैं। किसानों की कहीं सुनवाई नहीं हो रही। भाकियू की मंडी धनौरा में हुई पंचायत में बिजली समस्या को जोर-शोर से उठाया गया।

किसानों ने कहा है कि बिजली विभाग किसानों की अनदेखी कर रहा है। समय से बिजली नहीं मिल रही। जब कहीं ट्रांसफार्मर फुंक जाता है या लाइन में खराबी हो जाती है तो महकमा उसे हल्के में लेता है। बिजली व्यवस्था को सुचारु नहीं किया जाता। उसके लिए किसानों को बिजलीघरों के कई-कई बार चक्कर लगाने पड़ते हैं। उनकी फसलें चौपट हो रही हैं। भीषण गर्मी में खेती को पानी की अधिक जरुरत होती है। बिजली न आने की वजह से समय पर खेतों को पानी नहीं उपलब्ध हो रहा है।

पंचायत में किसानों ने चेतावनी भी दी कि यदि 48 घंटे में ट्रांसफार्मर नहीं बदले तो वे आंदोलन को मजबूर होंगे। इस दौरान किसान सम्मान निधि के पात्र किसानों की राशि के शीघ्र भुगतान की भी मांग की गयी। निधि का पैसा सीधा खाते में भेजे जाने को कहा गया। प्रथमा बैंक द्वारा किसानों को कर्ज देने पर फाइल चार्ज लगाने की भी आलोचना की गयी। साथ ही अन्य किसान हित की मांगों पर चर्चा हुई।

-टाइम्स न्यूज़ मंडी धनौरा.

No comments