81 साल की उम्र में गिरीश कर्नाड का निधन

girish-karnad-ka-nidhan
कर्नाड को पद्म सम्मान, ज्ञानपीठ पुरस्कार, राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, फिल्मफेयर आदि से भी नवाजा जा चुका है..
जाने माने अभिनेता, निर्देशक और लेखक गिरीश कर्नाड का निधन हो गया है। पिछले माह ही वे 81 साल के हुए थे। कर्नाड काफी समय से बीमार चल रहे थे। बेंगलुरु में सुबह उनका निधन हुआ। 1998 में उन्हें प्रतिष्ठित ज्ञानपीठ सम्मान से भी पुरस्कृत ​किया गया था। सलमान खान की हिट फिल्में -'एक था टाइगर' और 'टाइगर जिंदा है' में उन्होंने काम किया था।

गिरीश कर्नाड का जन्म 19 मई, 1938 में महाराष्ट्र में हुआ था। वे बचपन से ही नाटकों में रुचि लेने लगे थे। वे स्कूल के दिनों में रंगमंच से जुड़ गये थे। 1970 में उन्होंने कन्नड़ फिल्म 'संस्कार' में स्क्रिप्ट लेखन का कार्य किया। उन्होंने 'तुगलक', 'ययाति', आदि नाटकों की रचना की।



कर्नाड ने मालगुड़ी डेज़ जैसे चर्चित धारावाहिक में स्वामी के पिता का किरदार निभाया था। 1990 के दशक में वे दूरदर्शन के कार्यक्रम 'टर्निंग पॉइंट' में भी काफी पसंद किए गये। वे 1974-75 तक पुणे एफटीआईआई के निदेशक के पद पर भी कार्यरत रहे तथा संगीत नाटक अकादमी के चेयरमैन भी रहे।

गिरीश कर्नाड को पद्म सम्मान, ज्ञानपीठ पुरस्कार, राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, फिल्मफेयर आदि से भी नवाजा जा चुका है।

-टाइम्स न्यूज़ नई दिल्ली.

No comments