अच्छी खबर : जुबिलेंट बनायेगी कोरोना के इलाज की संभावित दवा

jubilant-gajraula
विश्व के 127 देशों में इस दवा वितरण के लिए गिलियड साइंसेज द्वारा सह​मति बनी है.
जुबिलेंट लाइफ साइंसेज लि. अब कोरोना की संभावित दवा भी बनायेगी। कंपनी ने अमेरिका की प्रतिष्ठित दवा कंपनी गिलियड साइंसेज (इंक) के साथ 12 मई 2020 को एक करार किया है जिसके अनुसार कोरोना के इलाज की संभावित दवा 'रे​मेडिसिवर' के कच्चे माल यानी रॉ-मैटिरियल का निर्माण जुबिलेंट की गजरौला स्थिति इकाई में होगा। विश्व के 127 देशों में इस दवा वितरण के लिए गिलियड साइंसेज द्वारा सह​मति बनी है।

कोरोना के इलाज के लिए अभी तक जो भी परीक्षण हुए हैं उनमें सबसे सफलतम परीक्षण रेमिडिसिवर का ही रहा है। इसे संयुक्त राज्य अमेरिका खाद्य व औषधि प्रशासन (USFDA) द्वारा मान्यता मिली है। दवा परीक्षण के दौरान यह पाया गया कि गंभीर रुप से संक्रमित मरीज़ों पर भी दवा की निर्धारित मात्रा से तीव्र उपचार हुआ है। यह अमेरिका में अत्यंत कारगर साबित हुआ है।

जुबिलेंट और गिलियड की साझेदारी पर जुबिलेंट के चेयरमैन श्याम एस. भरतिया व को-चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर हरि एस. भरतिया ने बयान जारी कर कहा, 'हमें इस साझेदारी पर अत्यंत प्रसन्नता है। शीघ्र यह दवा जुबिलेंट में बनेगी तथा नियमानुसार व अनुबंध की शर्तों के अनुरुप इसे विश्व के अन्य देशों को भी उपलब्ध कराया जायेगा।'

radheshyam-singh-jubilant

जुबिलेंट के यूनिट हेड राधेश्याम सिंह ने इसके लिए कंपनी प्रबंधन तथा दवाई के निर्माण में सेवारत समस्त कर्मचारियों को बधाई दी है और आशा व्यक्त की है कि जुबिलेंट लाइफ साइंसेज लि. हमेशा अपने देश और विश्व के लोगों के लिए इसी तरह सेवायें देती रहेगी।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.